डीमैट खाता क्या होता है? – What is a Demat Account?

डीमैट खाता क्या होता है? – What is a Demat Account?

 

डीमैट खाता क्या होता है? – What is a Demat Account?

एक डीमैट खाता (Demat account), जिसे डीमैटरियलाइज्ड खाते (Dematerialised Account)) के रूप में भी जाना जाता है, जो आपको इलेक्ट्रॉनिक प्रारूप में शेयर और संपत्ति रखने की अनुमति देता है। ऑनलाइन ट्रेडिंग के दौरान शेयरों को डीमैट खाते में खरीदा और रखा जाता है, जिससे ग्राहकों के लिए व्यापार करना आसान हो जाता है।

यह एक बैंक खाते के समान होता है, जिसमें आप बैंक में पैसा जमा कर सकते हैं और बैंक पासबुक में अपने डेबिट और क्रेडिट बैलेंस का ट्रैक रख सकते हैं। इसी तरह, आप शेयर खरीदते हैं या बेचते हैं, आपके डीमैट खाते में उसी के अनुसार क्रेडिट या डेबिट किया जाता है। इसका उपयोग स्टॉक (Stock), ईटीएफ (ETF), म्यूचुअल फंड (Mutual Fund), बॉन्ड (Bond) और सरकारी प्रतिभूतियों सहित निवेश की एक विस्तृत श्रृंखला को स्टोर करने के लिए किया जाता है। आप  भी एक डीमैट खाता खोल सकते हैं, भले ही आपके पास कोई स्टॉक न हो। और आप अपने डीमैट खाते का बैलेंस जीरो रख सकते हैं।

डीमैट खाते (Demat Account) का उपयोग किसी निवेशक (Investor) के स्टॉक होल्डिंग्स को स्थानांतरित करने के लिए किया जाता है। इसी तरह, शेयर ट्रेडिंग करने के लिए डिलीवरी इंस्ट्रक्शन स्लिप (Delivery Instruction Slip- DIS) का इस्तेमाल किया जाता है। आप शेयर खरीद सकते हैं और उन्हें डीमैट खाते से सुरक्षित रूप से स्टोर कर सकते हैं।

डीमैट खातों के प्रकार (Types of Demat accounts)

भारत में, डिपॉजिटरी (Depository) द्वारा मुख्य रूप से तीन प्रकार के डीमैट खाते पेश किए हैं। आप अपनी आवासीय स्थिति के आधार पर, अपने शेयर ट्रेडिंग और निवेश उद्देश्यों के लिए सही प्रकार का खाता चुन सकते हैं।

विभिन्न प्रकार के डीमैट खाते इस प्रकार है:

नियमित डीमैट खाता (Regular Demat Account):

ये भारत के निवासियों के लिए अभौतिकीकृत खाते हैं। यदि आप भारत के निवासी हैं जो मुख्य रूप से इक्विटी ट्रेडिंग (Equity Trading) और निवेश से संबंधित हैं, तो आपको नियमित डीमैट खाता खोलना चाहिए।

प्रत्यावर्तनीय डीमैट खाता (Repatriable Demat Account):

यह गैर भारतीय नागरिक के लिए उपलब्ध दो प्रकार के डीमैट खातों में से एक है। जैसा कि इसके नाम से पता चलता है, एक प्रत्यावर्तनीय खाता आपको अपने धन को विदेश में स्थानांतरित करने की अनुमति देता है यदि आप एक एनआरआई (NRI)  हैं। अपने धन के प्रत्यावर्तन का आनंद लेने के लिए आपको इस खाते को एक गैर भारतीय बाहरी (एनआरई) बैंक खाते से जोड़ने की आवश्यकता होती है।

गैर-प्रत्यावर्तनीय डीमैट खाता (Non- Repatriable Demat Account):

यदि आप एक गैर भारतीय नागरिक हैं, तो आप एक गैर-प्रत्यावर्तनीय डीमैट खाता चुन सकते हैं। इस प्रकार का खाता आपको विदेश में फंड ट्रांसफर (Fund Transfer) करने की अनुमति नहीं देता है। इस खाते को एक गैर साधारण एनआरओ (Non-resident Ordinary ) बैंक खाते से जोड़ना आवश्यक होता है।

डीमैट खता खोलने के लिए आवश्यक दस्तावेज

आप एक डीमैट खाते को बैंक खाते की तरह ही खोल सकते हैं, जिसमें पैसे के बजाय स्टॉक्स शेयर और बांड्स होते हैं। डीमैट खाता खोलने की प्रक्रिया और आवश्यक अनिवार्य दस्तावेज सभी जगह एक समान हैं। 

डीमैट खाता खोलने के लिए आवश्यक दस्तावेजों की जानकारी इस प्रकार है।

आय का प्रमाण: 

  • आयकर विभाग को जमा की गई आयकर रिटर्न (ITR) की एक फोटोकॉपी
  • नेट वर्थ का प्रमाण पत्र के वार्षिक विवरण की फोटोकॉपी।
  • चालू माह की वेतन की पर्ची (Salary Slip of Current Month)

पहचान का प्रमाण: 

  • वैध फोटो वाला पैन कार्ड
  • आधार कार्ड (Adhaar Card)/वोटर आईडी कार्ड (Voter-ID)/ड्राइविंग लाइसेंस (Driving License)/पासपोर्ट(Passport)

पते का प्रमाण: 

  • पासपोर्ट/पहचान पत्र/राशन कार्ड/ड्राइविंग लाइसेंस/बीमा की एक फोटोकॉपी ।
  • बिल जैसे टेलीफोन बिल/ बिजली/गैस बिल जो 3 महीने से अधिक पुराना न हो की एक फोटोकॉपी।
  • बैंक पासबुक जो 3 महीने से अधिक पुरानी न हो की एक फोटोकॉपी।

डीमैट खाता कैसे खोला जाता है (How To Open A Demat Account):

आप इन आसान चरणों का पालन करके डीमैट खाता खोल सकते हैं:

  • सबसे पहले एक डिपॉजिटरी पार्टिसिपेंट चुनें जिसके साथ आप डीमैट खाता खोलना चाहते हैं।
  • बाद में, एक खाता खोलने का फॉर्म भरें और पते और पहचान के प्रमाण बताते हुए आवश्यक दस्तावेजों की फोटोकॉपी के साथ एक पासपोर्ट आकार की तस्वीर संलग्न करें। आपके पास पैन कार्ड होना चाहिए। सत्यापन के लिए मूल दस्तावेजों को साथ ले जाना याद रखें।
  • आवेदन की प्रक्रिया पूरी होने के बाद, आपको डिपॉजिटरी पार्टिसिपेंट से एक खाता संख्या प्राप्त होगी। डीमैट खाते को ऑनलाइन एक्सेस (Online Access) प्राप्त करने के लिए इन विवरणों की आवश्यकता होती है।
  • जब आप डीमैट खाता धारक बन जाते हैं, तो आपको अपने डीमैट खाते के रखरखाव के लिए वार्षिक रखरखाव शुल्क (Service Charge) का भुगतान करना होता है। इसके अतिरिक्त, डीमैट खाते के माध्यम से स्टॉक्स शेयर और बांड्स लेनदेन खरीदने/बेचने के लिए लेनदेन शुल्क लिया जाता है । 
  • आप बिना किसी शेयरधारिता के डीमैट खाता खोल सकते हैं। इसके अलावा, न्यूनतम बैलेंस बनाए रखने का कोई आदेश नहीं है।

डीमैट खाते का महत्व (Importance of Demat Account):

डीमैट खाता शेयरों और प्रतिभूतियों को सुरक्षित रखने का एक डिजिटल रूप से सुरक्षित और सुविधाजनक तरीका प्रदान करता है। यह भौतिक प्रमाणपत्रों की चोरी, जालसाजी, हानि और क्षति को समाप्त करता है। डीमैट खाते के साथ, आप प्रतिभूतियों को तुरंत स्थानांतरित कर सकते हैं। एक बार व्यापार स्वीकृत हो जाने के बाद, शेयरों को आपके खाते में डिजिटल रूप से स्थानांतरित कर दिया जाता है।

इसके अलावा, स्टॉक बोनस, विलय आदि जैसी घटनाओं के मामले में, आपको अपने खाते में शेयर स्वतः मिल जाते हैं। इन गतिविधियों के संबंध में आपके डीमैट खाते की जानकारी केवल वेबसाइट पर लॉग इन करके ऑनलाइन उपलब्ध होती है। आप अपने स्मार्टफोन या डेस्कटॉप/ लैपटॉप का उपयोग करके चलते-फिरते व्यापार कर सकते हैं या स्टॉक्स शेयर और बांड्स खरीद या बेच सकते है।

इसलिए, आपको लेन-देन करने के लिए स्टॉक एक्सचेंज जाने की आवश्यकता भी नहीं होती है । आप कम लेनदेन लागत का भी लाभ उठा सकते हैं क्योंकि शेयरों के हस्तांतरण में कोई स्टांप शुल्क शामिल नहीं होता है। डीमैट खाते की ये विशेषताएं और लाभ निवेशकों द्वारा बड़े व्यापार की मात्रा को प्रोत्साहित करते हैं, जिससे आकर्षक रिटर्न की संभावना काफी हद तक बढ़ जाती है।

Previous Post Next Post