Credit Score खराब होने के कारण और इसे बेहतर कैसे बनाए (2021 में)

Credit Score खराब होने के कारण और इसे बेहतर कैसे बनाए (2021 में)

 Credit Score खराब होने के कारण और इसे बेहतर कैसे बनाए

आज हम बात करने वाले हैं कि Credit Score आखिर कई बार ऐसा होता कि हमारा गिरता ही चला जा रहा है। जबकि हमने कभी लोन पे डिफॉल्ट नहीं किया। हम रेगुलरलि सारी ईएमआई भी पे करने और हर महीने ना हम बड़ी उम्मीदों से हमारा Credit Score चेक करते कि शायद बढ़ गया और वो गिर जाता है तो हैरानी होती है कि हमको तो बोला गया था टाइम से इंस्टॉलमेंट देते रहो और Credit Score बढ़ेगा।

तो आज सच में जानेंगे कि Credit Score असली में किन चीजों से बढ़ता है। किन चीजों से गिरता है और अगर आप ये सोच रहे ना कि मुझे क्या करना। मैंने तो कभी लोन लिया नहीं। मैं क्यों क्रेडिट स्कोर चैक करूं तो आप भी क्रेडिट स्कोर जरूर चेक करिए क्योंकि इसके दो कारण हैं।

पहला कारण कई बार इसमें गलती आ जाती है बहुत रेयर तो यहां तक हो जाता है किसी और का लोन किसी और के पैन कार्ड में चढ़ जाता है और अगर वो लोन ना पे करें तो आपका क्रेडिट स्कोर कम हो जाता है। तो आपको न इसे रेगुलर चेक करते रहना जरूरी है।

इसके अलावा अगर आज आपने कोई लोन नहीं लिया लेकिन आपको आगे चलकर लोन लेना है तो Credit Score आपको आज से बिल्ड करना पड़ेगा और क्रेडिट स्कोर जीरो से एक रिस्पेक्टिव लेवल तक पहुंचाने में 8 महीने 10 महीने साल भर लग सकता है उससे ज्यादा भी लग सकता है। तो अगर आपको फ्यूचर में कोई लेना है तो जरूरी है कि आज से आप अपने क्रेडिट स्कोर को अच्छा करें।

तो बेसिकली दो तरह के लोग हैं जिन्होंने लोन लिया है जिन्होंने लोन नहीं लिया है और ये पोस्ट उन दोनों के लिए इम्पॉर्टेंट है। चलिए जानते हैं क्या है क्रेडिट स्कोर किन चीजों से बढ़ता है किन चीजों से कम होता है और कैसे आप आसानी से इसे इम्प्रूव कर सकते हैं।

नमस्कार दोस्तो आइए जानते हैं क्रेडिट स्कोर का पूरा सच को।

क्रेडिट स्कोर क्या है?

सबसे पहले समझते हैं कि क्रेडिट या सिबिल स्कोर होता क्या है इसका फंडा क्या है। तो अगर आपने भी मेरी तरह बचपन में सीआईडी या क्राइम पेट्रोल देखा है तो देखते साथ हर जब भी किसी पर शक होता था उस सीरियल में तो सबसे पहले एक डिजिटल सॉफ्टवेयर में कम्प्यूटर में उनका पुलिस ट्रैक रिकॉर्ड देखा जाता था। चेक करने के लिए कि वो पहले किसी क्राइम में इन्वॉल्व रहे हैं या नहीं।

तो अब सोचिए बैंक्स के पास जब आप लोन लेने जाते हैं उनको क्या पता कि आप लोन वापस करोगे भी या नहीं या वो ये कैसे डिसाइड करें कि आपको पैसा देना चाहिए कि नहीं। इनकम प्रूफ और बाकी चीजें अपनी तरफ हैं लेकिन उनको एक ऐसा मैकेनिज्म भी चाहिए जिससे वो आपके पुराना पूरी हिस्ट्री खंगाल के देख सके कि पहले अगर आपने कभी लोन लिया है क्रेडिट कार्ड लिया है। किसी भी तरीके का कोई लोन लिया है तो आपकी रीपेमेंट हिस्ट्री क्या रही है। क्या आप टाइम पर पैसा देंगे और उस बेसिस पे वो डिसाइड कर पाते हैं कि आपको लोन देना है कि नहीं।

तो ये जो Credit Score है वही एक सेंट्रलाइज्ड मैकेनिजम जैसा है। सारे फाइनैंशल इंस्टिट्यूशंस जो भी लोन बांटते हैं उसके पास कस्टमर आए तो वो उस कस्टमर का डेटा इस सेंट्रल डेटाबेस में अपलोड करते हैं। ताकि अगली बार अगर आप किसी और फाइनैंशल इंस्टिट्यूशंस के पास जाएं तो आपका डेटाबेस वहां पहले से हो और वो आपकी हिस्ट्री चेक कर सके।

तो ये एक तरह से सेंट्रलाइज्ड डेटा बेस है जो आपकी हिस्ट्री ट्रैक करता है कि आपने पहले लोन टाइम पे pay करे हैं या नहीं। तो यह कंसेप्ट है क्रेडिट स्कोर का। तो बेसिकली आप क्रेडिट स्कोर से कभी भाग नहीं सकते। वो हमेशा आपके बारे में बैंक और फाइनेंशियल इंस्टीट्यूशंस को बताता रहेगा कि उन्हें आप पर विश्वास करना है के तो ये सारी जिंदगी आपसे पीछा नहीं छुड़ा पाएंगे।

यह इसलिए इम्पॉर्टेंट है और कई बार क्योंकि इसमें मैनुअल काम इन्वॉल्व रहता है तो इसमें गलतियां हो जाती है। हो सकता अपने लोन पे कर दिया लेकिन वो इस डेटाबेस में चढ़ा नहीं बैंक से गलती हो गई। किसी और का लोन आपके नाम पे चढ़ गया कुछ दो चार पैसे बचे दो रुपए भी नहीं पैसे बचे थे आप ने सोचा लोन कंप्लीट हो गया लेकिन वो अभी भी सेंट्रल डेटाबेस में पेंडिंग दिखा रहे है। तो ये सारी गलतियां ना हो इसके लिए जरूरी है कि आप इसे रेगुलर ट्रैक करते रहिए।

सबसे पहली चीज तो ये है कि आपको इसको रेगुलर ट्रैक करते रहना है। अब पहले ट्रैक करना मुश्किल था फिजिकल था फॉर्म भर के क्रेडिट ब्यूरो को भेज और वो आपसे हर बार पैसा लेते थे। लेकिन अब आप paisabazar से आपका क्रेडिट स्कोर चेक करते तो ये कंप्लीट फ्री है पेपर लैस है डिजिटल है और आप हर महीने रेगुलर अपना Credit Score बिना किसी कॉस्ट के चेक कर सकते हैं।

Also Read: Recurring Deposit क्या होता है ?

अच्छे Credit Score के फायदे

आप जानते हैं कि अगर आपका Credit Score बहुत अच्छा या बहुत डिसिप्लिन और आपने अच्छा क्रेडिट स्कोर पा लिया है इसका क्या मतलब है। अच्छे क्रेडिट स्कोर का मतलब है कि ज्यादा बैंक ज्यादा एनबीएफसी ज्यादा क्रेडिट कार्ड कंपनीज आपको अपने प्रॉडक्ट्स देने को रेडी हो जाएंगी, लोन देने को रेडी हो जाएंगे।

उनको आप पर ज्यादा भरोसा आएगा और अभी तो आप समझ ही सकते हैं ना ज्यादा ऑप्शंस अगर आपको 10 बैंक लोन देने को तैयार हैं का मतलब है कि आपके पास ज्यादा ऑप्शंस हैं कि जो कम प्रोसेसिंग फीस लेना या नहीं ले रहे जो कम ब्याज भी दे रहा है मैं उससे लेलू।

जाने बेटर Credit Score का मतलब है कि आपके पास ज्यादा वराइटी होगी जिसका मतलब है कि आपको जब भी लोन की जरूरत होगी तो वो आपको सस्ते में मिलेगा तो ये एडवांटेज है। खराब क्रेडिट स्कोर का मतलब है अगर आप बहुत ही खराब हैं तो आपको ना सबस्टेशन लोन लेने में बहुत ज्यादा दिक्कत होने वाली है।

Also Read: Inflation क्या है और इसे कैसे Manage करें?

Credit Score कैसे खराब नहीं होता है?

तो चलिए अब डिस्कस करते कि कैसे ये खराब नहीं होता है, Credit Score कैसे खराब होता है और कैसे आप Credit Score इम्प्रूव कर सकते हैं। सबसे पहले कुछ मेजर कन्फ्यूजन से ये क्लियर कर लेते कि कैसे आपका Credit Score खराब नहीं होता है ताकि उन चीजों की आपको चिंता ना हो।

1 बार बार अपना क्रेडिट स्कोर चेक करने से

चीज जिससे ये खराब नहीं होता है वो ये कि अगर आप बार बार अपना क्रेडिट स्कोर चेक करें। आप अगर रेगुलर लिए अपना क्रेडिट स्कोर चेक कर रहे हैं तो चेक करने से आपका Credit Score खराब नहीं हो जाएगा। आप चेक कर सकते हैं उसे क्रेडिट स्कोर में कोई इम्पैक्ट नहीं आने वाला। तो अब आपने जान लिया कि ट्रैक कैसे कर सकते हैं।

2 क्रेडिट कार्ड नियमित उपयोग न करने के

दूसरा नोट फुल्ली यूजिंग और क्रेडिट कार्ड या नोट रेगुलर यूजिंग योर क्रेडिट कार्ड। एक कन्फ्यूजन में भी कई बार सोचता हूं कि अगर मेरे क्रेडिट कार्ड में 50 हजार की लिमिट है और मेरे पांच हजार खर्च किया या किसी महीने खर्च नहीं किया या दो हजार रुपये खर्च किया तो क्यों कि मैं अपनी क्रेडिट लिमिट यूज नहीं कर रहा इसलिए मेरा क्रेडिट स्कोर खराब हो जाएगा। ऐसा बिल्कुल नहीं है लिमिट है तो उसको यूज ही करना यूज़ ना करने पे खराब हो जाएगा ऐसा बिल्कुल नहीं है इसकी चिंता मत करिए।

3 क्रेडिट कार्ड की लिमिट बढ़ाने से

तीसरा अगर आप अपनी ओवरड्राफ्ट लिमिट या क्रेडिट कार्ड लिमिट बढ़ा देते हैं तो लिमिट बढ़ाना आपको लोन लेने का ऑप्शन देना है आपने वो लोन लिया नहीं है। तो लिमिट बढ़ाने से भी Credit Score खराब नहीं होगा या नहीं आप चेक कर सकते हैं। चेक करने से खराब नहीं होगा लिमिट बढ़ाने से खराब नहीं होगा और कम यूज करने से भी खराब नहीं होगा। इन चीजों से बिल्कुल मत डरिए।

Credit Score खराब होने के कारण

अब हम जानते हैं किन चीजों से यह असल में खराब होता है और क्यों अगर हम टाइम पे लोन पे कर भी रहे हैं हम इंस्टॉलमेंट दे भी रहे हैं तो भी कई बार ये खराब हो जाता है और इससे ना हमको बहुत दुख होता है तो आप जानते हैं कि आपका Credit Score खराब कैसे होता है।

1 लोन या ईएमआई समय से भरपाई न करने से

एक चीज हम सबको पता है। अगर आपने कोई लोन लिया और ईएमआई पटाने से आप चूक रहे हैं तो ये खराब होगा यह तो हम सबको पता है इसलिए हम टाइम से भरपाई करते है। लेकिन और भी कारण है।

2 फाइनैंशल इंस्टिट्यूशंस या बैंक द्वारा आपका क्रेडिट स्कोर बार बार चेक करने से

दूसरा अगर आपने बार बार फाइनैंशल इंस्टिट्यूशंस के पास लोन की इन्क्वायरी की ऐसी इनक्वायरी जिससे वो बैंक के फिनांशल इंस्टिट्यूशंस क्रेडिट ब्यूरो से आपकी क्रेडिट हिस्ट्री निकालता है और उसको ध्यान से समझेगा।

आप जितनी भी बार अपनी क्रेडिट रिपोर्ट मंपैसा बाजार से क्रेडिट ब्यूरो से तो आपका क्रेडिट स्कोर खराब भी होगा लेकिन अगर आप बैंक के पास फाइनेंशियल इंस्टीट्यूशन के पास किसी तरह के लोन के लिए जा रहे हैं और वो क्रेडिट ब्यूरो से आपका क्रेडिट इन्फर्मेशन निकाल रहे हैं ये डिसाइड करने के लिए आपको लोन देना है या नहीं और ऐसा बार बार हो रहा है तो आपका क्रेडिट स्कोर खराब होगा।

आप कितनी भी बार रिपोर्ट निकाल सकते हैं जब जब बैंक निकालेंगी आपका क्रेडिट स्कोर खराब होगा। अगर ये बहुत ज्यादा बार हो रहा है तो।

3 लोन लिमिट से बहुत ऊपर तक उपयोग करना

तीसरा अगर आप लोन की जॉ आपकी लिमिट है उसको बहुत ऊपर तक यूज करे। जैसे अगर आपके क्रेडिट कार्ड में एक लाख की लिमिट है मंथली और आप 80 हजार नब्बे हजार फाइव 95k तक यूज करते आप लगभग पूरी कपैसिटी यूज कर रहे या आधे से ज्यादा यूज कर रहे हैं तो ये भी आपके क्रेडिट स्कोर इंपैक्ट देगा। क्योंकि बैंक के लिए ये एक निशानी है कि आप एकदम खींचे हुए हैं।

आपको हर तरह के लोन के सोर्सेज यूज करने पड़ते हैं अपने बिल पे ऑफ करने के लिए। तो ये ना बैंक के लिए डेंजरस साइन होता है। इसीलिए अगर आपका 1 लाख का करेंट कार्ड है तो 20 हजार 30 हजार 40 हजार खर्च करीब प्रॉब्लम नहीं है। अगर एकदम 80 90 हजार आप खर्च कर रहे हैं तो आपका Credit Score इम्पैक्ट होगा।

4 बहोत ज्यादा लोन का उपयोग करना

चौथा आपका क्रेडिट मिक्स। क्या आपके पास बहुत सारे क्रेडिट कार्ड हैं। ऊपर से होम लोन है अप्लायंस लोन है। जितने तरह के लोन हो सकते हैं एजुकेशन लोन है वाहन लोन है और कई सारे लोन ले रखे है ये भी एक प्रोब्लम है। अगर आपकी टोटल इनकम 50 हजार महीने की है और उसमें से आप 30 हजार रुपए लोन में पटा रहे हैं ये भी बहुत बुरा साइन है तो कितने सारे लोन के प्रॉडक्ट हैं और आप अपनी मंथली सैलरी का कितना परसेंट लोन पे करने में लगा रहे हैं इससे भी आपका Credit Score अफेक्ट होता है।

ये चार कारण हैं पास्ट परफॉर्मेंस फ्रीक्वेंट इन्क्वायरी इस बार बैंक बहुत ज्यादा तरह के लोन ले लेना और चौथा लोन को बहुत ज्यादा हद तक यूज करना जैसे कि क्रेडिट का।

इसके अलावा एक और बात का ध्यान रखें कि हिस्ट्री और ड्यूरेशन भी बहुत इम्पॉर्टेंट है। अगर आपके पास 10 साल से क्रेडिट कार्ड है और आप उसको रेगुलर टाइम पे pay कर रहे तो बहुत बड़ा waitage से उस क्रेडिट कार्ड का। तो उस क्रेडिट कार्ड का आपको खास ध्यान रखना है और उसको कंटीन्यू रखने की कोशिश करिए दिसकंटीन्यू करना ही है तो जो नया क्रेडिट कार्ड है उसको डिस कंटीन्यू करिए।

Credit Score बेहतर कैसे बनाए

अब कुछ जान लेते हैं कि आपका अगर Credit Score खराब हो गया है काफी खराब हो गया है तो आप इंप्रूव कैसे कर सकते हैं आप उसे इम्प्रूव कर सकते हैं सिक्योर्ड लोन इंस्ट्रुमेंट्स लेके।

अब क्या होता है अगर आप क्रेडिट कार्ड ले रहे हैं जो आपकी एफडी के किन सिक्योर्ड है कि आपने एक लाख की एफडी कराई उसके बदले में आपको 80 हजार रुपए का क्रेडिट कार्ड मिल रहा है तो बैंक इसको देने में डरेगा नहीं क्योंकि उसके पास एक लाख रुपए की सिक्योरिटी है। तो आपका Credit Score खराब भी हो तो बैंक देने को रेडी हो जाएगा।

लेकिन जब आप उस क्रेडिट कार्ड पर रेगुलर पेमेंट करेंगे तो उससे आपकी क्रेडिट रिपोर्ट इम्प्रूव ज़रूर हो जाएगी।

तो किसी भी तरह का अगर अब सिक्योर्ड लोन लेते हैं लोन अगेंस्ट प्रॉपर्टी, शेयर इस तरह का सिक्योर्ड लोन और उसे टाइम से री पे करते हैं तो आपके खराब क्रेडिट रिपोर्ट भी इम्प्रूव हो सकती हलेकिन एक बात का फिर से ध्यान रखिए रिपोर्ट कई लोगों के साथ मैंने ये देखा है कि वो तो डिसिप्लिन है लेकिन चूंकि वो ट्रैक नहीं कर रहे थे और कुछ गलतियां आ गई उसके कारण उनके क्रेडिट स्कोर खराब हो गया।

क्रेडिट कार्ड जो आपने सोचा कि आपने क्लोज करने बोल दिया लेकिन वो क्लोज नहीं हुआ। कुछ रुपए आपके लोन में चुकाने के बचे थे आपको बैंकर ने बोल दिया आपका लोन पढ़ गया लेकिन वो कुछ रुपयों के कारण आपके क्रेडिट स्कोर को पेनल्टी लग रही है.

इस तरह की चीजें ऐसा ना हो उसके लिए मैं फिर से कहूंगा प्लीज रेगुलर ली ट्रैकिंग करते रहिए। तो अपना पैसा बाजार से लाइफटाइम फ्री ट्रैकिंग कर सकते हैं अपने क्रेडिट स्कोर की मल्टिपल लैंग्वेजेस में अवेलबल हैं और मल्टिपल क्रेडिट ब्यूरो की रिपोर्ट आपको ईजी टू अंडरस्टैंडिंग भाषा में अवेलेबल है।

उम्मीद करता हूं ये पोस्ट आपको पसंद आया होगा। अगर हां तो इसे शेयर जरूर कर दीजिएगा।

Previous Post Next Post