स्वतंत्रता दिवस क्या है? क्यों ओर कैसे मनाते है? - पूरी जानकारी हिंदी में...

स्वतंत्रता दिवस क्या है? क्यों ओर कैसे मनाते है? - पूरी जानकारी हिंदी में...

 

स्वतंत्रता दिवस क्या है?

15 अगस्त 1947 वो दिन है जब भारत अंग्रेजों की गुलामी से स्वतंत्र हुआ था। तब से लेकर आजतक हर साल 15 अगस्त के दिन स्वतंत्रता दिवस मनाया जाता है। स्वतंत्रता दिवस हमारा रास्ट्रीय त्योहार है। स्वतंत्रता दिवस को अंग्रेजी में Independence Day कहा जाता है। आप सोच रहे होंगे की स्वतंत्रता दिवस सिर्फ भारतमें ही मनाया जाता है, लेकिन ऐसा नही है जब भी कोई देश किसी दूसरे की गुलामी से आजाद होता है उस दीन को उस देश में स्वतंत्रता दिवस मानया जाता है। भारत में 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस कहा जाता है क्योंकि उसी तारीख के दिन भारत को स्वतंत्रता मिली थी।


स्वतंत्रता दिवस कब मनाते है?

वैसे तो भारत में अनेक त्योहार मनाये जाते है जो की तिथि के अनुसार आते है पर कुछ ऐसे भी त्योहार है जो तिथि के अनुसार नहीं परंतु तारीख के अनुसार आते है जैसे की मकरसंक्रांति 14 जनवरी के दिन मनाया जाता है तथा गणतंत्र दिवस 26 जनवरी के दिन मनाया जाता है, वैसे ही स्वतंत्रता दिवस 15 अगस्त के दिन मनाया जाता है।


स्वतंत्रता दिवस का इतिहास

यूरोपीय देश जानते थे कि भारत एक समृद्ध देश है। इसलिये 17 सदी के दौरान अंगेज व्यापार करने के हेतु से भारत आये थे। उस समय भारत में मुगलों का साम्राज्य था। ओर उस समय पोर्तुगीज पहले से ही व्यापार करते थे। तभी अंग्रेजों ने जहाँगीर को भड़काया ओर पोर्तुगीज को को भारत से निकलवाया। बादमे परवानगी ले कर अंग्रेजों ने अपनी पहली कंपनी ईस्ट इंडिया कंपनी शुरू की ओर व्यापार शुरू किया।


◆ Paytm से पैसे कमाए


लेकिन भारत के लोगों का सरल व्यवहार देखकर अंग्रेजों को लगा की इन्हें लुटना बहुत आसान है। इसलिये उन्होंने अपनी कूटनीति अपना ना शुरू कर दिया। वो सिर्फ अपना ही फायदा देखते थे इसलिए वो भारत के लोगों पे कई अत्याचार भी करते थे। अत्याचार बढ़ते जा रहे थे। कुछ क्रांतिकारी ने कई आंदोलन किये ओर कई ने तो अपनी कुर्बानिया भी दी। बहोत सालो बाद गाँधीजी के नेतृत्व में भी कई आंदोलन हुए पर वो निष्फल रहे।


कुछ क्रांतिकारीयोने हिंसात्मक आंदोलन किये तो कुछ ने अहिंसात्मक। उनमें से कई क्रांतिकारीयो को जेल जाना पड़ा तो कुछ को तो अपनी कुर्बानी भी देनी पड़ी। पर उन सबकी कुर्बानिया व्यर्थ नही गई। सबसे साहस ओर लगातार किये जाने वाले आंदोलन के चलते अंग्रेजों को भारत छोड़ के जाना ही पड़ा ओर हमे उनकी गुलामी से 15 अगस्त के दिन आज़ादी मिल ही गयी।


हम स्वतंत्रता दिवस क्यों मनाते है?

भारत को अंग्रेजों की गुलामी से पूर्ण रुप से आजादी 15 अगस्त 1947 को मिली थी। तब से हम इस दिन को स्वतंत्रता दिवस के नाम से जानते है। इसी दिन से सभी भारतीयों को अंग्रेजों के अत्याचारों ओर गुलामी से आज़ादी मिली थी। इसकी खुशी में हम हर साल 15 अगस्त के दीन स्वतंत्रता दिवस मानाते है।


स्वतंत्रता दिवस कैसे मनाया जाता है?

15 अगस्त हमारा राष्ट्रीय त्योहार है। इसलिए इस त्योहार को पूरे भारत में मनाया जाता है। इस दिन राजधानी दिल्ली के लालकिल्ले में प्रधानमंत्री द्वारा राष्ट्रध्वज लहराया जाता है। उसके बाद राष्ट्रगीत गाया जाता है ओर तिरंगे को सलामी दी जाती है। बाद में प्रधानमंत्री द्वारा भाषण दिया जाता है। उसके बाद रैली निकली जाती है ओर सैनिकों द्वारा प्रदर्शन किया जाता है।


स्कूल ओर कॉलेजो में भी राष्ट्रीयध्वज लहराया जाता है ओर कार्यक्रम आयोजित किया जाता है। तथा स्वतंत्रता के लिए शाहिद हुए लोगो को याद किया जाता है ओर अध्यापकों द्वारा विद्यार्थियों को स्वतंत्रता दिवस के बारे में जानकारी दी जाती है। सरकारी ऑफिसो में भी बड़ी ही धूमधाम से स्वतंत्रता दिवस मनाया जाता है।


◆ पैसे कैसे कमाए


पूरे देश में लोग बड़े ही उत्साह से स्वतंत्रता दिवस मानते है। टीवी में भी देशभक्ति की फिल्में दिखाई जाती है। जगह जगह पे देशभक्ति के गीत सुनाई देते है।


15 अगस्त के दिन कितने देश आजाद हुए थे?

17 वी सदी के दौरान अंग्रेज भारत में आये थे ओर 19 वी सदी में भारत को  अंग्रेजों से आज़ादी मिली थी, मतलब करीब 200 सालो तक अंग्रेजों ने भारत पे अपना अधिशासन जमाए रखा फिर 15 अगस्त 1947 के दिन भारत को स्वतंत्रता मिली थी। वैसे ही दुनिया के सभी देशो मैं से तीन ऐसे देश भी है जिन्हें भी इसी दीन स्वतंत्रता मतलब आजादी मिली थी। वो तीन देश दक्षिण कोरिया, बहरीन, और कांगो है जिन्हें भी 15 अगस्त के दिन आज़ादी मिली थी। इन सब को मिलाके कुल 4 देश है जो 15 अगस्त के दिन आजाद हुए थे।

Previous Post Next Post